Posts

Showing posts from September 28, 2016

अथक, अजय, अचल,

Dedicated to all those brave men-women who are fighting for,fought for,will fight for this great country of India! Peace!

अमिट  है  ये  कल्पना ,
जैसे  अथाह  है  ये  जल ,
उठ  और  साकार  कर ,कोई  विकल्प  ना ,
बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

तुझसे  ही  उम्मीद  है ,तुझसे  ही  ये  कल ,
खींच  प्रत्यंचा ,चढ़ा  धनुष ,अब  देर  ना  कर .

बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

हो  तुझमे  संवेदना ,हो  तुझमे  वो  ललक ,
ना  कर प्रतीक्षा ,ना  कोई  संदेह  जाये  भड़क ,
कर  ले  वीर रस पान  तू ,यही  तेरा  पवित्र जल ,
बस  याद  रख -बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

बलिवेदी  वीरो  की  है  उस  चंद्र  के  समान ,
जो  निशा  के  अंधकार  में  दे  सूर्य  का  प्रमाण ,
कह  ले  तू  भी  एक  बार  वो  मंत्र  चल ,
बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

संध्या  और  भी  आएँगी ,मन  अब  ना  तू  कर  विचल ,
सवेरा  रंग  जाए  तेरी  लालिमा  से ,करे  कुछ  ऐसा  चल ,
धर  पकड़  अपनी  इच्छा ,कर  ले  वश  में  तू ,ना  अब  फिसल ,
बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

कतरा  ना ,ये  तो  है  तेरा  धरम ,
संकल्प  ले ,बीड़ा  उठा ,भीष्म  जैसा  परम ,
तू  वीर  है ,आशीर्वाद  ही  है  तेरा  हथियार ,तेरा बल ,
बन  अथक …