खिलौना

एक  मुद्दत  की  शिकन  थी ,
सौ  यादों  का  सामान  था ,
वो आँखें  दो  दरिया  ही  तो  थी ,
वो खिलौना  ये  दिल  ही  तो  था .

बाजार में  आये  तो  जाना  क्या  कीमत  है ,
बेमोल  वर्ना  समझ बैठे  थे  इस  दिल-ए-नादान  को  हम ,
रुसवाई  हो  ही  गयी  है  जब  तो  ये  हाल  है ,
की  खरीदार  भी  हो  गए  है  कही  गुम.

तमन्नाओं  की उस  राख  को  सीने  से  क्या  लगाए  अब ,
जब  काश  की  चमक  भी  धुंधली  हो  चुकी  हो ,
किसे  इलज़ाम  दे ,किसे  काफिर  कहें  अब ,
जब  इस दिल  ने  ही  अपनी  रूह  की  आबरू  लूट  ली  हो .

मौत  तो  है  एक  सस्ता  सौदा ,
इतने  हम  खुशनसीब  कहाँ ,
ना वफ़ा  मिली ,ना  रहा  औहदा  ,
फरियाद  करने  के  लिए  भी  अब  होश  कहाँ .

दिल  है  बस  एक  शीशा  अब ,बिखरने  तो  तैयार ,
एक  एहसान  की  दरख्वास्त  कर  लू  शायद ,
की  कोई  रहम  करे ,एक  पत्थर  ही  मुझे  दे  मर ,
जिस्म  टूटने  को  बाकी  है  बस ,पूरी  कर  दे  रिवायत .

तौबा  करके  चले  हम  इस  जन्नत  से ,
की  जहाँ  और  भी  है  जहन्नुम  से  बदतर ,
कुछ  सीखो  इस  खामोश  जनाज़े  से ,
जब  दिल  बने  खिलौना  तो  यही  है  मुक़द्दर .






Post a Comment

Popular posts from this blog

I wish!

अथक, अजय, अचल,