Skip to main content

वो पुराने सूखे हुए दरख़्त!

बहुत दिन हुए,अब लगता है आओ चलते है,
उस पुरानी गली मे उस पुराने घर की ओर आज मुड़ते है

गली कुछ सिमटी सहमी से अब लगती है,वो चहल पहल कही गुम है,
वो पुराने दरख़्त अब सूख गये है,डालो पर पंछी भी अब कम है

गली की वो धूल अब कहाँ मेरे पैरों को छूती है,
वो बारिश के पानी की मिठास अब कहाँ कही होती है

यही खेला था,यही गिरा था मैं चलते चलते,
अब वैसी ठोकर के इंतेज़ार मे दिन है बनते गुज़रते 

टायर की उस रफ़्तार मे घूमता था बचपन वो सुहाना,
कुल्फी और होली की राह  देखता था तब मन दीवाना

एक नज़र पुराने घर पर गयी,और लगा कोई आवाज़ देता है.
वो पुराने सूखे हुए दरख़्त से मानो लगा अब भी कोई ‘मैं’ झूलता है.

ज़िंदगी के आशियाने मे कुछ मोड़ पीछे रह गये है,
पर एक सास भर और उस घड़ी मे लेने को मान होता है.

दोस्तों को नही ढूंढता की मालूम है मेरा बचपन नही रहता यहा अब,
कोई खिड़की खोल दे मौला कभी तो मिल आऊँ उनसे सब.

गहरी है यादों की ये नदी,डूबने को मान करता है.
उस पुराने सूखे हुए दरख़्त से फिर बातें करने का मान करता है.
Post a Comment

Popular posts from this blog

The Fury!

The road rides with me,turns & bumps!
My fury scorches it too,scars & burns!
I don`t feel anything now,fire or wrath!
And I dont remember what I lost or won,the math!

The sky teases me,goes away as I ride close,
The hills roll besides as if reciting a prose!
My mind ignores the visage so soothing and clean,
For the heart burns,waiting only to vent the spleen!

The wind lingers on,fighting me side to side,
The wheels burn their rubber & learn to abide!
I take joy in the hell I make out of heaven,
There`s no returning from it,there`s no raven!

The anguish inside bubbles but never errupts,
The hate vapourizes fear but never corrupts!
I am thinking clear after ages of torture,
Hate is my wound and anger is my suture!

There is nothing else I would do than burn,
The wheels my weapon,every inch every turn!
What melts in heart is now a vapourizing fuel,
This world is a ring and I am ready to drive and duel!

I wish!

I wish I was a kid still...
I could watch the rain from my old window sill..

If only I had the access to the past...
I could race ahead of everyone just so fast..

Pity that wouldnt have made difference to our fortunes...
We would still be singing to the destiny`s drums and tunes..

So when I brood what I wish the most ever...
It is to reclaim my innocence,I wish I would have lost never..

To cry out to my mum,when I am in trouble...
To keep dad unaware about a mischief,a bursting bubble..

I long for that smell of my old house and the rusted gates...
I never imagined that I would no longer climb atop to reach to the dates..

Home is where our people are,not any house alone...
We spread ourselves too thin,and miss the tip of the cone..

The plains and the dust I brought along...
How heat or sweat never interrupted,rain forced us to broke into a song..

The sound,sights and smell I long for are still there,lost in memories...
But the senses are no longer of a boy,who was the chief of all mischeavious coteries…

अथक, अजय, अचल,

Dedicated to all those brave men-women who are fighting for,fought for,will fight for this great country of India! Peace!

अमिट  है  ये  कल्पना ,
जैसे  अथाह  है  ये  जल ,
उठ  और  साकार  कर ,कोई  विकल्प  ना ,
बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

तुझसे  ही  उम्मीद  है ,तुझसे  ही  ये  कल ,
खींच  प्रत्यंचा ,चढ़ा  धनुष ,अब  देर  ना  कर .

बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

हो  तुझमे  संवेदना ,हो  तुझमे  वो  ललक ,
ना  कर प्रतीक्षा ,ना  कोई  संदेह  जाये  भड़क ,
कर  ले  वीर रस पान  तू ,यही  तेरा  पवित्र जल ,
बस  याद  रख -बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

बलिवेदी  वीरो  की  है  उस  चंद्र  के  समान ,
जो  निशा  के  अंधकार  में  दे  सूर्य  का  प्रमाण ,
कह  ले  तू  भी  एक  बार  वो  मंत्र  चल ,
बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

संध्या  और  भी  आएँगी ,मन  अब  ना  तू  कर  विचल ,
सवेरा  रंग  जाए  तेरी  लालिमा  से ,करे  कुछ  ऐसा  चल ,
धर  पकड़  अपनी  इच्छा ,कर  ले  वश  में  तू ,ना  अब  फिसल ,
बन  अथक ,बन  अजय ,बन  अचल .

कतरा  ना ,ये  तो  है  तेरा  धरम ,
संकल्प  ले ,बीड़ा  उठा ,भीष्म  जैसा  परम ,
तू  वीर  है ,आशीर्वाद  ही  है  तेरा  हथियार ,तेरा बल ,
बन  अथक …